ARTICLE 15

article15-new-poster

ARTICLE 15

(1) The State shall not discriminate against any citizen on grounds only of religion, race, caste, sex, place of birth or any of them.

(2) No citizen shall, on grounds only of religion, race, caste, sex, place of birth or any of them, be subject to any disability, liability, restriction or condition with regard to—

     (a) access to shops, public restaurants, hotels and places of public entertainment; or

     (b) the use of wells, tanks, bathing ghats, roads and places of public resort maintained wholly or partly out of State funds or dedicated to the use of the general public.

Article 15 is the second in the list of the Fundamental Rights that the Indian Constitution guarantees to its Citizens.

This movie as the name suggests is based on this very Right. Ayushman Khurana plays this young IPS officer who after graduating from St. Stephens and studying abroad returns to join the Indian Police Services to fulfil his father’s wishes and gets posted to this back and beyond of Uttar Pradesh for using the term ‘Cool Sir!!’ with Shastriji – The Home Secretary.

As he takes charge of his office the area get embroiled in the missing and eventually deaths of two teenage Dalit Girls and the search for the third one. There is the caste equation in play and the need to maintain a given Social Order for everyone to live in harmony. His girlfriend who is an activist based in Delhi who acts as his emotional – guiding anchor and shows him the way.

B.R. Ambedkar exhorted Dalits to flee the countryside and move to the cities to escape the shackles of caste. “The love of the intellectual Indian for the village community is of course infinite, if not pathetic,” wrote Ambedkar. “What is a village but a sink of localism, a den of ignorance, narrow-mindedness and communalism?” This is what the setting in the film epitomizes.

This movie has three main stand out heros, namely :

  1. Ayushman Khurana – The last movie I saw of his was Andhadhun and in that review I had written that he is turning into 21st Century’s Amol Palekar considering the characters he was playing, how wrong I was !! This is a film he owns the role of the anglicised Police Officer. The depth, the gravitas and the dilemma is such enacted perfectly.
  2. Anubhav Sinha – It took him nearly 17 years to find his calling in the kind of movies he wanted to make. From touching the Hindu – Muslim divide in Mulk and now handling the Caste Equations in this ones. He doesn’t sugar coat the harsh reality of today’s India. There is no holding back and and he spares no one and calls out the names as they stand.
  3. Dialogues – What crackling dialogue !! Hitting out on the political parties, the caste  system and the system, to quote a few:
  • “Main Or Tum Inhai Dekhai He Nahe Dete… Hum Kabhi Harijan Hojate Hai, Kabhi Bahujan Ho Jate Hain Bus Jan Nahe Ban Pa Rahain Hai… Ke Jan Gan Mein Hamari Bhe Ginte Ho Jai”
  • “Jo hum dete hain vahi aukaat hai sir”

jpr78646467573897193-largeWhat we see in this movie is not that happens something in some far away land, not too far from the cities we live in a Dalit Gdalitroom can’t ride on a Horse, no one wants to eat from a Dalit’s hands in schools that are supposed to remove this very idea of untouchability.

How long before the millennial old notions of social order is finally consigned to flames?

How long before we start accepting the idea of everyone being equal before even talking against reservations??

Go watch this movie for it deserves not only to be seen and but also to be imbibed.

Political Worker

One lazy Sunday afternoon when moving an eyelid is also a herculean task, my father informs me of an impending visit by a hotshot astrologer / politician claiming to be close to the mighty and powerful from a northern state. Grudgingly I muster all my energy and move away from my weekend of Netflix Binge.

This gentleman arrives with his entourage with all the necessary peripherals i.e. wearing Starched Linen (bcoz linen is the new Khaadi) Kurta-Pyjama, carrying 2 Mobile Phones and couple of hanger-ons !! A few minutes in the conversation I realised his clout was definitely overstated and he was what is called in the corporate jargon – A midlevel employee, someone who draws power from the fact that the CEO knows his name and this very achievement is used to keep the subordinates in their place i.e. tiny cubicles!!

Having had a brief experience as a karyakarta of my party, I can sometimes easily find out the nature of a person in terms of their politics. I have realised the political workers can be somewhat be broadly classifies in set of categories across the party lines. Each has their own unique characteristics. To name a few:

  • The Believers – The Believers are the true upholders of the party ideology. They implicitly believedownload in the principles of the party and its leaders. They are never hankering for party posts or draw personal advantage from the above beliefs. For them being in power or not is immaterial as long as the party is true to its cause. This is a category any party should be proud to have but sadly they are the most neglected ones only remembered during the elections.

 

  • The Dissidents – The whole existence of Dissidents is derived from the fact they oppose a powerful download (1)individual from their own party with tooth and nail. They are usually in minority in their party but that’s what gives them visibility, acceptance and media space. They may not have any worthwhile accomplishments of their own but their own stature is only fed on the criticism of the other.

 

  • The Followers – The followers is what every Leader/Neta wants to acquire. Party ideology be downloaddamned!! They have complete faith, trust and confidence in their leader whichever side he chooses to be in. They are similar to the believers in a sense that like them they are always standing with their leaders. There is however a downside of having them, they sometimes cloud the reason of their leader and also takes them away from the reality.

 

  • The Fence Sitters – This category belongs to individuals who want to be close to power. They have no ideology and no loyalties. download (2)They can suck-up to whoever is calling the shots. Considering the fleeting nature of politics they can switch loyalties in a blink of an eye with no remorse or guilt. They are perfect in playing the subservient role and can give a true follower a run for his money and make the Neta even question The Followers. They are the most dangerous one cause you don’t know when they switch to the other side and show their true colours.

 

  • The Professional – Politics now days for some are no more about service and this category symbolises this download (1)perfectly. For them politics is another profession they have chosen to be to earn their livelihood. Their politics is about the advancement of their business and are usually in an industry that is highly dependent of government liaison or interference. They sometimes have to suffer from being close to a political party but the profits earned during the good times help them glide over these hiccups.

To get back to the beginning, over a cup of चाय (u can say चाय-पे-चर्चा) we discussed politics, wrote off some people and then he left our place with big promises of putting a positive word for me to the higher ups. I just hope I don’t have to use his influence but like Mr. Bond said ‘Never say Never Again’, I am thinking of soon forwarding him फूल-पत्ती, चाय-कप वाला Good Morning message !!

A JOURNEY TO REMEMBER

unnamed (2)

आज दिनांक 31.7.2018 को हम सब आधुनिक राजस्थान के निर्माता एवं पूर्व मुख्यमंत्री स्व. मोहनलाल जी सुखाड़िया की 102 वीं जयंती मना रहे हैं और इस से बेहतर और क्या दिन हो सकता है जब उनकी धर्मपत्नी एवं पूर्व सांसद स्व. इन्दुबालाजी सुखाड़िया के योगदान को भी याद करें.

इंग्लिश के एक मशहूर कहावत है की – ‘Behind every successful man there is a woman’ यानी एक सफल पुरुष के पीछे हमेशा एक महिला का हाथ होता है और यही बात स्व. मोहनलाल जी सुखाड़िया पर भी लागू होती है. उनके व्यक्तित्व, उनके कार्य, उनके स्वाभाव और उनके राजनैतिक सफ़र के बारे में बहुत कुछ सुना, देखा और पढ़ा गया है. लेकिन कई अनछुए पहलों ऐसे है जो सुखाड़िया जी के संघर्षों में उनकी भार्या के योगदान को समझने का मौका देती हैं.

सन 1942  पर गांधीजी का “करो या मरो” का नारा और जेल भरो आन्दोलन अपने चरमोत्कर्ष पर था. सुखाड़िया जी के विवाह को मात्र 3 वर्ष ही हुए थे. तब उनकी 3 माह की एक बच्ची थी. एक दिन अचानक रात को 1 बजे पुलिस जा धमकी , घर की तलाशी ली गयी. श्रीमती  सुखाड़िया ने उन्हें तिलक लगाकर नारियल देते हुए हँसते-हँसते विदा किया. सुखाड़िया जी को इसवाल जेल में बंद कर दिया गया. अन्य राजनैतिक कार्यकर्ताओं की भांति चंदाश्रित श्रीमती सुखाड़िया को पसंद नहीं था. वे उदयपुर दिल्ली गेट स्तिथ पाठशाला में अध्यापिका बन अपनी आर्थिक आवश्यकताओं के समाधान का माध्यम स्वयं ही खोज लिया.unnamed (3)

तब सुखाड़िया जी को पथ विचलित करने के लिए तत्कालीन पुलिस अधीक्षक सुन्दरलाल त्रिवेदी ने सहानुभूति का नाटक रचा और इन्दुबाला जी को कहा की इतने कम वेतन में कैसे काम चलेगा ? स्तिथि विकट है उन्हें सुखाड़िया जी को समझाना चाहिए , शायद सारी उम्र जेल में कट जाए या राष्ट्रद्रोह के अपराध में फांसी हो जाए. उन्होनें पुलिस की सलाह मान ली लेकिन शर्त राखी की वे अपने पति से अकेले में बात करेंगी.

जब वह उनसे मिली तो सुखाड़िया जी ने पूछा “ तुम क्या चाहती हो? क्या तुम भी सरकार के सामने समर्पित होने को कहती हो?” वह क्षण ऐतिहासिक था, बड़ी सहजता से उन्होनें कहा “आप मेरी औए बेबी की चिंता न करें. मेरे मोह में पड़ कर विचलित हो गए तो इससे बड़ी पमानजनक पीड़ा मेरे लिए और कुछ नहीं होगी. मैं आपसे सिर्फ यह कहने आई हूँ की यदि फांसी पर भी झुलना पड़े तो भूल जाना, लेकिन पथ से डिगना मत.” सुखाड़िया जी गर्व से अभिभूत हो उठे, इन्दुबाला जी उनके इरादों को और पुख्ता कर आयीं थी.

घर की चौहद्दी के अन्दर मुख्यमंत्री स्व. इन्दुबाला जी बनकर ही रहती थी. उनका कठोर शासन सुखाड़िया जी को शिरोधार्य करना पड़ता था. जब सुखाड़िया जी ने स्वेच्छा से मुख्यमंत्री पद से त्यागपत्र दिया तो कई राजनैतिक मित्र, कांग्रेसी विधायक आदि उनको समझाने के लिए आये की वे त्यागपत्र ना दें. तब इन्दुबाला जी द्रढ़ हो गयीं की त्यागपत्र किसी हालत में लौटाया ना जाये. तब सुखाड़िया जी ने चुपके से मुस्कराकर यही कहा की इसने तो साक्षात रणचंडी का रूप धारण कर लिया है.

इस किस्से को याद करते हुए राजस्थान प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्षा स्व. लक्ष्मी कुमारी जी चुण्डावत कहा था की रूप जो भी धारण कर लिया हो इन्दुबाला जी ने यदि सुखाड़िया जी ने किसी प्रकार के भी प्रभाव में न आकर त्यागपत्र न लौटाया, तो इसका एक मात्र श्रेय इन्दुबाला जी को ही था !!

पूर्व सांसद, मंत्री एवं किसान नेता स्व. कुम्भाराम जी आर्य ने उनके योगदान को याद करते हुए कहा था “सुखाड़िया सहनशील, कुशल राजनीतिज्ञ थे. उनकी धर्मपत्नी इन गुणों को पोषण और रक्षण देनेवाली धर्मपत्नी रहीं. सुखाड़िया की कीर्ति में बहिन इन्दुबाला का हाथ कम नहीं रहा.”

मृत्यू के कुछ ही समय जब वरिष्ठ पत्रकार बी एल पानगडिया ने सुखाड़िया जी से पूछा की उनके दीर्घ सार्वजनिक जीवन में सर्वश्रेष्ठ घडी कौन से थी. तब सुखाड़िया जी ने बताया की शादी के बाद जब पहली बार नाथद्वारा आये और वहां के युवकों ने “मोहन भैय्या जिंदाबाद” के नारे लगाते हुए जिस तरह नव वर-वधु का स्वागत किया था वोह उनके जीवन का सर्वश्रेष्ठ पल था.

स्वयं सुखाड़िया जी ने इस घटना का निम्न शब्दों में वर्णन किया है :- “आज में सोचता हूँ की मुख्यमंत्री के रूप में भी मेरा ऐसा भव्य और अपूर्व उत्साहपूर्ण जुलुस नहीं निकला. इस जुलुस ने मुझे भावी जीवन के संघर्ष में आगे बढने की प्रेरणा दी. मेरे इर्द-गिर्द सशक्त नौजवानों की अपूर्व भीड़ थी, इस घटना के बाद में मैंने फिर कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा.”

एक युग का समापन

28167186_10155318773776245_1904626891792704467_n

आज सुबह जैसे ही उठा और अपना मोबाइल देखा तो एक मेसेज पड़ा और ज्ञात हुआ की आज भानु का तेज और प्रकाश हमारे जीवन से हमेशा हमेशा के लिए चला गया .

हृषिकेश भैया का यह मेसेज अपने साथ न सिर्फ आदरणीय भानु कुमार जी शास्त्री जी के निधन और उनकी सफल और प्रेरणादायक जीवन यात्रा का अंत लाया था और शायद उसी के साथ उनके और मेरे दादा स्व. मोहनलाल जी सुखाड़िया के ज़माने के उसूलवादी , सहजता अवं आत्मीयता वाली राजनीती अवं राजनीतिज्ञों पर पूर्णविराम था. आदरणीय भानु जी ऐसे युग का नेतृत्व किया जहाँ द्वेष, बदले और प्रतिद्वंदी के प्रति असम्मान की कोई जगह नहीं थी. वोह उस दौर के नेता था जहाँ राजनीती सेवा थी ना की रोज़गार का एक और साधन.

मेरा सबसे पहले उनसे वाकिफ मेरी दादी स्व. इन्दुबाला जी सुखाड़िया के लोकसभा चुनाव के दौरान हुआ जो वह भानु कुमार जी के सामने लड़ रहीं थी. मैं लगभग ६-७ साल का था और ऐसे ही हम सब घर के बच्चे बे-सर-पैर के नारे लगा रहे थे भानु जी के खिलाफ. मुझे आज भी याद है की दादी ने मुझे डआंट लगायी और कहा की ऐसे नहीं करते. यह था प्रतिद्वंदी की प्रति सम्मान. समय बीतता गया और साथ ही जानने के मौका मिला की हमारे परिवार का कोई भी शुभ काम उनके पूछे बगैर नहीं होता, यह था दोनों परिवार के बीच के सम्बन्ध. भानु जी दादा-दादी दोनों के सामने चुनाव लड़े लेकिन हमारे पारिवारिक संबंधों में कभी नाम मात्र भी कटुता नहीं आई.

हमारे परिवार की सारी जन्म कुंडलियाँ उनके द्वारा ही बनायीं गयी है. कुछ वर्षों पहले मैंने एक चुनाव लड़ने का मानस बनाया. सबसे पहले पापा – मम्मी उन्हीं के पास मेरी पत्री ले कर गए, देखते ही उन्होनें चुनाव ना लड़ने की हिदायत दी. लेकिन मेरी जिद और कुछ नासमझी में वोह चुनाव मैं लड़ा और हारा. बात को स्पष्ट कहना उनकी आदत थी चाहे तब कही या कहीं मिल जाते और मेरा वज़न बड़ा होता तो वहीँ टोक देते थे. ऐसे थे भानु जी ….

कई बार उनसे मिलने के लिए सोचना पड़ता था क्योंकि बाउजी के पास किस्सों का पिटारा था और उनसे मिलना मतलब पूरा समय देना क्योंकि उन किस्सों में समय का मालूम ही नहीं चलता. बीते कुछ वर्षों से उनका फेसबुक पर दिखना एक सुखद अनुभव था. उदयपुर और राजस्थान में उन्होंने जनसंघ और बाद में भारतीय जनता पार्टी का ऐसा बीज बोया जिसके फलों का फायदा आज उनकी पार्टी को मिल रहा.

आखरी बार उन्हीं के घर पर उनके ९२ वें जन्मदिन के मौके पर मिलना हुआ और उम्र के उस पड़ाव में भी उनकी कभी न कम होने वाली उर्जा और बुलंद आवाज़ अब हमेशा कानों में गूंजती रहेगी ……

Mind Your Own Business !!

download

Scene one – FB Messenger 00:30 AM

WW 1 : नमस्ते Sir, कैसे हैं ?
Me : बढ़िया हूँ , और आप ??
WW 1 : आज कल दिल्ली में हूँ ?
Me : क्या कर रहे हो ?
WW 1 : Liaisoning का काम कर रहा हूँ !! (Sends me a Screen Shot of Google Maps showing off his location at a Delhi Based 5 Star )
Me: HMMMM
WW 1 : आपके काम में मज़ा नहीं आ रहा ??
Me: Good Nite

Scene Two – FB Messenger 00:15 AM

WW 2– How are you Sir?
Me – Doing Good !!
WW 2 – (Starts giving me Political Gyaan)
Me – Good Nite.

WW- Well Wisher???

This is the oft repeated midnight messages that I receive from some of my FB friends who think that just suppose I update my status late at night I am game to receive their ज्ञान.

Thidownload (1)s first WW is busy showing off the success (questionable) that he has achieved that has taken him from a small town of Rajasthan to the lobbies of Delhi Five Star Hotels and I guess that qualifies him to question my work!! I have somehow always found this lobbying and Liaison work little dubious and questionable but again to each his own. The conversation left me wondering what kind of work of mine would give him मज़ा !!

The Second WW happens to be a small time reporter of an equally small news agency with an ego that doesn’t commensurate with the quality and size of his work, was immediately unfriended after wishing him a Good Night !

To set the record straight and I repeat, no one can question my work or the lack of it!!

रंज गलतियों का हो मुझे …. मुनासिब है…..
आप की सोच का लेकिन …. हरगिज़ नहीं ….