Prawns on my Plate

आदरणीय पासवान जी,

आपको बहुत बहुत धन्यवाद देना चाहूँगा क्योंकि आपकी उस आधुनिक अवं सोशलिस्ट सोच की लिए जिसके रहते अब हम जैसे मासूम ग्राहकों को यह बावर्चीखाने लूट न सकेंगे. जो आपने सोचा है सही है, हमें जानने का हक है की झींगे की एक प्लेट में कितने मिलेंगे (वैसे आपके सहयोगी दल को जान के ख़ुशी होगी की मैं शाकाहारी हूँ इसलिए मेरे सन्दर्भ में झींगे की जगह पनीर बटर मसाला पढ़ा जाये). http://www.ndtv.com/india-news/how-many-prawns-on-your-plate-fix-portions-says-minister-ram-vilas-paswan-1679934. मेरा बस चले तो कल ही हाजीपुर शिफ्ट हो कर आपका मतदाता बन जाओं और निश्चित करों की अगले चुनाव में आपका १९७७ का रिकॉर्ड तोड़ कर ऐतेहासिक जीत हो.

paneer-tikka-using-oven-recipeआपसे सहमत हूँ आज कल मालूम ही नहीं पड़ता की पनीर टिक्के की एक प्लेट में कितने टुकड़े आयेंगे, और यही कारण है की जब समूह में खाना खाने जाते हैं तो मालूम नहीं रहता की कितनी प्लेट आर्डर की जाए, कैलकुलेशन गड़बड़ा जाता है. और परिणाम स्वरुप शर्मा-शर्मी में कई बार दूसरों के अनुपात या तो कम या ज्यादा खान पड़ता है. सोशलिस्ट सोच जो कहती है की ‘Equitable distribution of food items’ होना चाहिए, हार जाती है.

यही मुख्य कारण है मुझे गुजराती खाmaxresdefaultना बहुत पसंद है, यहीं में यह भी स्पष्ट करना चाहता हूँ की दिल्ली में सत्ता नशीं जो लोग हैं इस से इस का कोई सरोकार नहीं हैं. खैर छोडिये गुजराती खाना और खासकर उनकी थालियाँ का शायद ही कोई दुनिया में मुकाबला कर सकता है, एक थाली, जेब के अनुसार व्यंजन और जो भी विकल्प चुनिए खाइए (कॉलेज के दिनों में मित्रों के साथ मैं थाली कभी खायी नहीं हमेशा ठूसी है) पेट भर के बिना किसी टेंशन के बस थाली पुरसी और चालु !! ना मीनू देखना, न कोई कैलकुलेशन और डिवीज़न करना.

fine-diningआप श्री से गुज़ारिश है की सब से पहले आप के डिपार्टमेंट के इंस्पेक्टरों को यह जो आलिशान ‘Fine Dining’ / ‘Gourmet Restaurant’ हैं इनको को पाबन्द करें, यह सब ऊँची दूकान और फीका पकवान की कहावत को सच करते हैं. इन टाइप की जगह में जेबें खाली हो जाती हैं लेकिन ना तो पेट भरता हैं और न ही भाषा समझ में आती है. इनको पाबंद करें की हर डिश का एक मिनिमम वज़न हो क्योंकि जब तक स्वाद समझ में आता है डिश ख़तम हो गयी होती है, और दूसरी आर्डर करने को पॉकेट मना कर देती है.

अंत में फिर से आपको और आपकी सरकार को इस क्रांतिकारी पहल के लिए बहुत बहुत साधुवाद, आप ही हैं जो जनता और गायों की बेहतरी के बारे में सोचते हैं. और हम सब को मदिरापान से दूर कर मंदिर और अध्यात्म की और ले कर जा रहे हैं. जैसे की एक संस्कृत श्लोक में कहा गया “यदन्नं भक्षयेन्नित्यं जायते तादृशी प्रजा” यानी जैसा खायेंगे वैसा सोचेंगे.

कहीं २०१९ के लिए यह आपकी एक और तय्यारी तो नहीं , खैर जाने दीजिये आप तो बस इस फैसले को लागू कीजिये !!

आपका भावी वोटर,
दीपक

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s